— कविलास मंडल
— 14 जुलाई 2020

हरिहरगंज । प्रखंड के कटैया पंचायत अन्तर्गत बनसप्ती गांव के ग्रामीण सह न्यू प्राथमिक विद्यालय के पारा शिक्षक सुदय कुमार सिंह के ढाई कट्ठा खेत में लगी लौकी (कद्दू) की खेती को अज्ञात शरारती तत्वों ने बीते दिनों रात को जड़ में मात्रा से ज्यादा विषैलायुक्त यूरिया खाद डालकर बर्बाद कर दिया। इसके बाद कद्दू का लहलहाता लर सुखकर बर्बाद हो गया।इस कारण भुक्तभोगी पारा शिक्षक को करीब 20 से 25 हजार रुपए का आर्थिक नुक़सान पहुंचा है।

शरारती तत्वों के इस हरकत को ग्रामीणों ने गम्भीरता से लिया है। जिसकी सूचना प्रभावित शिक्षक ने पंचायत के मुखिया अनिल कुमार सिंह को भी दे दी है। पारा शिक्षक सुदय ने बताया कि कोरोना वायरस covid-19 महामारी के बढ़ते खतरों के मद्देनजर स्कूल बन्द है। इस दौरान अपने खेतों में कद्दू की रोपाई कर आर्थिक तंगी से उबरने का प्रयास किया। उन्होंने साेंचा था कि स्कूल तो बन्द है। इस बीच सब्जी की खेती कर लेते हैं । जिससे कुछ रुपए आ जाएंगे और घर परिवारों का खर्चा निकल जाएगा।

काफी मेहनत के बाद खेत में लौकी का लर लहलहा रहा था। सैकड़ों फर भी लग चुके थे। इसी बीच शरारती तत्वों ने दुर्भावना से ग्रसित हो उम्मीदों पर पानी फेर दिया। उन्होंने बताया कि इसके पहले भी खेत में करेला लगाया था जो फर लगने के साथ ही मुरझा कर नस्ट हो गया। इस सम्बन्ध में कपेश्वर सिंह ,आजसू नेता अजीत कुमार सिंह, विश्वनाथ सिंह आदि ने ऐसे असमाजिक तत्वों पर पैनी नजर रखना जरूरी बताया । कहा कि अगर ऐसे समाज विरोधी लोगों पर अंकुश नहीं लगाया गया तो कभी भी और किसानों की खेती को नुक़सान हो सकता है।